देश में नावों की बिक्री बढ़ी

बरसात शुरू हुई नहीं कि देश के अधिकांश राज्यों में बाढ़ जैसी हालात हो जाती हैं. दिल्ली, मुंबई तो मानो किसी बारिश में सड़के  तालाब का रूप ले

Read more

पूर्व जानकारी पर कार्यवाही नहीं

धार्मिक स्थलों पर बम धमाके होना, देश की अखंडता और शांति पर प्रहार हैं, साथ ही इस ओर इशारा भी हैं कि  धर्म ही आतंकवाद

Read more

“जो चौका उढ़ते हुए जाय उसे छक्का कहते हैं”

हर कोई स्त्री हो या पुरुष, कभी न कभी इन लोगों के सम्पर्क में अवश्य आये होंगे, और तो और उनसे मिल के थोडा चकित, हैरान, गंभीर,

Read more

मनमोहन ने माना “नौ सालों में ईमानदारी भूला”

कांग्रेस सरकार (सप्रंग -२) के नौ साल पूरे होने पर कांग्रेसी नेताओं ने उपलब्धियों का बखान किया वहीँ उसी समय विरोधी पार्टियों ने सरकार को विफल

Read more

नेताओं की चर्चा स्वर्ग लोक में !!

किसी चिंता में डूबे ‘नारद’, ‘नारायण’ के पास पहुँचे और बोले “नारायण ! नारायण ! , हे प्रभु ! ये पृथ्वी में क्या हो रहा

Read more

समाज को सुधारने की ज़रुरत नहीं, देश संवर जायेगा , गर हरेक खुद को सुधारे।

रियलिटी शोज़ का शौकीन युवा फेसबुक में जिंदगी ढूढ़ रहा हैं, राह पर तड़पते दुर्घटनाग्रस्त लोगों को देख आँखों की नमी ढूढ़ रहा हैं, रेप,

Read more

चुल्लूभर मूत में डूब मरो

सरकारी नौकरीवाला! जब मैं कॉलेज में था तब हम अक्सर हर विषय पे गप्पे मारा करते थे उनमें से एक था कि कॉलेज के बाद कौन-सी नौकरी करनी

Read more

मार्कण्डेय काटजू, बेबाक या सर्किट या दोगुला !

         मार्कण्डेय काटजू का नाम समाचारों में तो सुना ही होगा, उनका मूल शौक अपने बयानों से सुर्खियाँ बटोरना हैं। मार्कण्डेय काटजू उच्चतम न्यायालय के

Read more