हे मालिक! पुत्रों में यह अंतर तूने क्यूँ किया?

हे मालिक! पुत्रों में यह अंतर तूने क्यूँ किया? किसी को अपंग  बनाया, किसी को बेघर कर दिया| उस मासूम बच्चे का क्या कसूर,

Read more

आजादी के बाद भी देश आजादी के लिए लड़ रहा हैं.

अखण्ड भारत पर अंग्रेजो का राज था। देशभक्त भारतीयों ने आजादी के लिए कडा संघर्ष किया, कई आन्दोलन और क्रांतियां हुई, जिसने अंग्रेजी सल्तलन को हिला के रख दिया।

Read more

देश में नावों की बिक्री बढ़ी

बरसात शुरू हुई नहीं कि देश के अधिकांश राज्यों में बाढ़ जैसी हालात हो जाती हैं. दिल्ली, मुंबई तो मानो किसी बारिश में सड़के  तालाब का रूप ले

Read more

पूर्व जानकारी पर कार्यवाही नहीं

धार्मिक स्थलों पर बम धमाके होना, देश की अखंडता और शांति पर प्रहार हैं, साथ ही इस ओर इशारा भी हैं कि  धर्म ही आतंकवाद

Read more

“जो चौका उढ़ते हुए जाय उसे छक्का कहते हैं”

हर कोई स्त्री हो या पुरुष, कभी न कभी इन लोगों के सम्पर्क में अवश्य आये होंगे, और तो और उनसे मिल के थोडा चकित, हैरान, गंभीर,

Read more

मनमोहन ने माना “नौ सालों में ईमानदारी भूला”

कांग्रेस सरकार (सप्रंग -२) के नौ साल पूरे होने पर कांग्रेसी नेताओं ने उपलब्धियों का बखान किया वहीँ उसी समय विरोधी पार्टियों ने सरकार को विफल

Read more

नेताओं की चर्चा स्वर्ग लोक में !!

किसी चिंता में डूबे ‘नारद’, ‘नारायण’ के पास पहुँचे और बोले “नारायण ! नारायण ! , हे प्रभु ! ये पृथ्वी में क्या हो रहा

Read more